एनएचके वर्ल्ड > संग सीखें जापानी > हिन्दी का पहला पन्ना > सेन्सेइ से पूछें > कारक 'नि' का इस्तेमाल करने का तरीक़ा (पाठ 16)

सेन्सेइ से पूछें

कारक 'नि' का इस्तेमाल करने का तरीक़ा (पाठ 16)

जब वाक्य के अंत में उपस्थिति बताने वाली क्रिया लगती है, जैसे कि क्रिया 'इमासु' यानी “होना”, तब कारक 'नि' वह जगह दर्शाता है जहाँ कोई व्यक्ति या जीव-जन्तु उपस्थित है। जैसे, 'वाताशि वा एकि नि इमासु' यानी “मैं स्टेशन में हूँ”।

जब वाक्य के अंत की क्रिया आना-जाना या बदलाव बताती है, जैसे कि क्रिया 'इकिमासु' यानी “जाना”, तब कारक 'नि' वह जगह दर्शाता है जहाँ क्रिया समाप्त होती है। जैसे, 'वाताशि वा एकि नि इकिमासु' यानी “मैं स्टेशन जाता/जाती हूँ”।

कारक 'नि' समय का बिन्दु भी दर्शाता है जैसे कि तिथि या घड़ी का समय। जैसे, मान लीजिए हमें जापानी भाषा में कहना है कि “आन्ना 10 बजे आएँगी”। “दस बजे” को जापानी में कहेंगे 'जुउजि' और “आना” के लिए क्रिया है 'किमासु', तो वाक्य होगा, 'आन्ना वा जुउजि नि किमासु'। “कल” या “अगले सप्ताह” जैसे शब्दों के साथ कारक 'नि' का इस्तेमाल नहीं किया जाता क्योंकि ये शब्द जिस तिथि की तरफ़ इशारा करते हैं वह, वाक्य बोले जाने के समय के अनुसार बदलती रहती है।
अगर आप कहना चाहते हों, “आन्ना कल आएँगी”, तो इसमें “कल” के लिए जापानी शब्द है 'आशिता'। इसलिए वाक्य होगा 'आन्ना वा आशिता किमासु'। यहाँ आप 'आन्ना वा आशिता नि किमासु' नहीं कह सकते।

कारक 'नि' की बहुत सारी भूमिकाएँ हैं। जैसे जैसे नई भूमिकाएँ आती जाएँगी, उन्हें याद करते जाइएगा।
*आप एनएचके की वैबसाइट से बाहर चले जाएँगे।